हम त मुखिया बानी भइया

No votes yet

हम त मुखिया बानी भइया सबसे इमानदार

विधवा निर्वल के करी भलाई चाहे चुए पसेना
पर उपकार के पथ से भइया पीछे कभी हटिना
अइसन हृदय के उदार भइया सबसे इमानदार

हम त मुिखया ...

निमुखा से कबुलियतनामा बचत बखारी पचइनी जामा
का करी केहू उपर वाला कागज में बा टाटे ल गाला
चटकी में होशियार भइया सबसे इमानदार
हम त मुिखया ...

बउआ हमर उत्तराधिकारी छप्पन छुडी तेज कटारी
तस्कर जअुारी युवक के वैषाखी मारग दखोवनहार

हम त मुिखया ...

Author: 
Segments: 

Comments

Recent Comments

About Online Sahitya


Online Sahitya is an open digital library of Nepali Literature | Criticism, Essay, Ghazal, Haiku, Memoir, Personality, Muktak, News, Play, Poem, Preface, Song, Story, Translation & more

© Online Sahitya Digital Library, All rights reserved. Online Sahitya is a digital library dedicated to Nepali Art and Nepali Literature.
For further details contact: onlinesahitya@gmail.com.